!!!

Monday, November 2, 2009

बस तुम्ही निजात दिला सकती है--

मैं
असहाय
एवम्‌ निरीह

त्रिशंकु सा उल्टा लटका हूं
अंधेरे महा शून्य में
जब कभी
कोई धूमकेतु निकलता है
मेरे समीप से
तो मैं हाथ-पांव मारता हूं
उसे पकड़ने के लिये
पर संभव नहीं होता
यह हरबार की तरह
यह महा शून्य
और घना अंधियारा हो जाता है
साथ-साथ बर्फ़ीला भी
मैं प्रतीक्षा में हूं
तुम्हारी सांसों की गरमाहट महसूसने को
बस तुम्ही निजात दिला सकती है
मुझे इस महाशून्य से
कब आओगी तुम


आज यहां http://gazalkbahane.blogspot.com/ यह गज़ल पढ़ सकते हैं आप

पहले देंगे जख्म और फिर--- गज़ल

6 comments:

  1. वाह !
    मैं हाथ-पांव मारता हूं
    उसे पकड़ने के लिये
    पर संभव नहीं होता
    यह हरबार की तरह
    यह महा शून्य
    और घना अंधियारा हो जाता है

    श्यामजी ....वाह !

    ReplyDelete
  2. साँसो की गरमाहट कही और विशाल शून्यता (वांछित) न दे जाये. विलीनीकरण और साहचर्यता शायद शून्यता प्रदान करती है.
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना!!

    ReplyDelete
  4. वाह के अलावा कोई शब्द नही सुझ रहा!

    ReplyDelete
  5. आपकी शब्द चयन क्षमता हैरान कर देती है...बेजोड़ भाव और कमाल की रचना...वाह
    नीरज

    ReplyDelete
  6. आपकी प्रतीक्षा अवश्य सफल होगी । सुंदर भाव भीनी कविता ।

    ReplyDelete