!!!

Wednesday, March 4, 2009

वह हो सकती है तुम्हारी पत्नी भी ।

सीखना
सहन
करना सीखना है
तो सीखो धरती से
या फिर
सीखो औरत से
जरूरी नहीं
वह
तुम्हारी माँ
बहन
या बेटी हो,
वह
हो सकती है
तुम्हारी पत्नी भी ।

1 comment:

  1. कविता बहुत पसन्द आई। परन्तु पत्नी से सीखना ! कुछ संस्कारविहीनता सा नहीं होगा यह?
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete