!!!

Friday, June 5, 2009

तूफानों से प्यार-


प्रश्न उठा
दुख: का
सागर
है अपार

कठिन है
जाना इसके पार


समाधान गुना
तो छोड़

कश्ती को मझधार

अपना लहरों को

कर तूफानों से प्यार

4 comments:

  1. सुन्दर विकल्प है और यही एक विकल्प भी है।

    ReplyDelete