!!!

Friday, January 1, 2010

कोयल सी चहके

कोयल सी चहके


फूलों सी महकें





जीवन भर खुशियां





घर आंगन में कें
नव-
नूतन वर्ष में सुख-म्पदा के बरसें घन
दुख दूर कहीं छुप बैठे,प्रफ़ुल्लित हो हर्षें तन- मन

हर सप्ताह मेरी एक नई गज़ल व एक फ़ुटकर शे‘र हेतु
http://gazalkbahane.blogspot.com/

6 comments:

  1. आपको और आपके परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  2. आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष की बहुत शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  4. आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये.
    सुख आये जन के जीवन मे यत्न विधायक हो
    सब के हित मे बन्धु! वर्ष यह मंगलदयक हो.

    (अजीत जोगी की कविता के अंश)

    ReplyDelete